Cyber Security क्या है? इसके प्रकार, फायदे और महत्व (in Hindi) #gautam bhaiya done

Cyber Security Kya Hai – दोस्तों अगर आपको जानना है की Cyber Security क्या है, इसका Definition, यह कैसे काम करता है,और इसके प्रकार क्या-क्या हैं. अगर आप जानते हैं तो हो सकता है की सब कुछ नहीं जानते होंगे, तो हमारे इस class को ठीक से पढने के बाद आपको Full Information पता चल जाएगी |

Cyber Security (साइबर सुरक्षा) क्या है : इस आधुनिक युग में पूरी दुनिया इंटरनेट के माध्यम से आपस में जुडी हुई है ऐसे में आपने साइबर अपराध की कई सारी घटनाओं के बारे और साइबर सुरक्षा के बारे में जरूर सुना होगा लेकिन क्या आप जानते है की साइबर सुरक्षा क्या है और यह आज के समय में क्यों जरुरी है ? अगर आप साइबर सिक्योरिटी के बारे में जानना चाहते है तो इस आर्टिकल को अंत तक पूरा जरूर पढ़ें क्योंकि इसमें हम Cyber Security के बारे में पूरी जानकारी जानने वाले है Hindi में .

अभी के समय में साइबर सिक्योरिटी काफी ज्यादा जरुरी चीज है क्योंकि आजकल इंटरनेट और टेक्नोलॉजी का यूज़ बहुत ज्यादा बढ़ चूका है और Users अपना पर्सनल डाटा अपने कई तरह के Devices , Softwares और अलग अलग Networks के माध्यम से शेयर करते है जो की सिक्योर ही होगा उसकी कोई गारंटी नहीं होती है .

आज की आपस में जुड़ी हुई दुनिया साइबर हमलों के प्रति सभी को संवेदनशील बनाती है। चाहे आप एक पेशेवर के रूप में साइबरसिटी की नई दुनिया की सापेक्षता की ओर आकर्षित हों, या सिर्फ खुद को ऑनलाइन और सोशल मीडिया में सुरक्षित रखने में रुचि रखते हों, इस आर्टिकल में आपको इसका जवाब मिलेगा।

Cybersecurity इंटरनेट से जुड़े सिस्टम की सुरक्षा है, जिसमें साइबर हमलों से हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर और डेटा शामिल हैं। यह दो शब्दों से बना है एक cyber है और दूसरा security है।

साइबर उस तकनीक से संबंधित है जिसमें सिस्टम, नेटवर्क और प्रोग्राम या डेटा होते हैं। जबकि security प्रोटेक्‍शन से संबंधित जिसमें सिस्टम सिक्योरिटी, नेटवर्क सिक्योरिटी और एप्लीकेशन और इनफॉर्मेशन सिक्योरिटी शामिल हैं।

चलिए विस्तार से समझते है Cyber Security In Hindi

Umeed hai ki class appko pasand aaye gi toh chaliye milte h class me.

Cyber Security Kya Hai

Cyber Security in Hindi

Cyber Security क्या है – Cyber Security या Cyber Safety एक तरह की सुरक्षा है जो Internet से जुड़े हुए सिस्टम के लिए एक सिक्यूरिटी होती है. इसके द्वारा Hardware और Software की डेटा को और भी सिक्योर बनाया जाता है जिससे किसी भी तरह से डेटा की चोरी न हो और सभी डॉक्यूमेंट और files सुरक्षित रहें.

Cyber Security दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है Cyber + Security, मतलब जो कुछ भी Internet, इनफार्मेशन, Technol;ogy, Computer, Network, Application या Data से सम्बंधित है उसे हम Cyber कहते हैं.

जबकि Security सुरक्षा से सम्बंधित है जिसमे System Security, Netrwork Security, Application और Information Security शामिल है.

Cyber Security कैसे काम करता है

Cyber Security के अंतर्गत Ethical Hackers की एक बड़ी Team होती है जो आपका Data चोरी होने, Data Delete होने या आपके किसी भी Device को नुकसान होने से बचाते हैं. Cyber Security में काम करने वाले बुरे लोगों को गलत काम करने से रोकते हैं.

इसके अंतर्गत आपके Network, Computer System, किसी Program और आपके Data को Secure रखा जाता है

Cyber Security क्यों जरुरी है (Need of Cyber Security in Hindi)

1. हमारे निजी डाटा जैसे कि image, Pdf, Text Document या अन्य किसी भी प्रकार के Data जो हमारे कंप्यूटर में रहता है उसको सुरक्षित रखने के लिए Cyber Security जरुरी है.

2. हमारा ऐसा कोई भी Data जिसमे सिर्फ हमारा Copyright होता है उसे सुरक्षित रखने के लिए Cyber Security बहुत जरुरी है. जैसे की अगर आपकी कोई कंपनी है उसके डाटा पर सिर्फ आपका ही Copyright होता है तो उसे कोई चुरा ना ले या कोई दूसरा व्यक्ति उसे इस्तेमाल ना कर पाए इसके लिए यह जरुरी है.

3. हमारे Banking और Financial डाटा को सुरक्षा प्रदान करने के लिए भी Cyber Security बहुत जरुरी है क्योकि अगर हमारा बैंकिंग डाटा सुरक्षित नहीं रहेगा तो कोई भी हैकर हमारे बैंक अकाउंट से पैसा निकाल सकता है 

और आजकल तो Internet Banking ज़िन्दगी का जरुरी हिस्सा बन गया है इसीलिए बैंकिंग और फाइनेंसियल डाटा को सुरक्षित रखना जरुरी है.

4. National Security के लिए भी Cyber Security बहुत जरुरी है. National Security का मतलब है की आजकल हमारे देश के Defence System में भी साइबर अटैक होते हैं.

5. कुछ ऐसे डाटा या इनफार्मेशन भी होते हैं जो बहुत आवश्यक और संवेदनशील होते हैं, जैसे कि आजकल सरकारी दफ्तरों में भी ज्यादातर काम इन्टरनेट के द्वारा ही किया जाता है.

See also  Battleground Mobile India for PC

अगर किसी सरकारी दफ्तर का डाटा लीक हो जाता है तो इससे भी बहुत भरी नुक्सान हो सकता है. अतः इस प्रकार की डाटा को सुरक्षित रखने के लिए भी Cyber Security बहुत जरुरी है.

Cyber Crime के प्रकार (Types of Cyber Crime in Hindi)

1. Hacking: इस प्रकार के Cyber Crime में हैकर प्रतिबंधित क्षेत्र में घुस कर किसी दुसरे इंसान के पर्सनल डाटा और Sensitive इनफार्मेशन को Access करते हैं बिना उस इंसान के अनुमति के, प्रतिबंधित क्षेत्र किसी का पर्सनल कंप्यूटर(PC), Mobile या कोई ऑनलाइन बैंक अकाउंट (Net Banking) हो सकता है.

2. Cyber Theft: इस प्रकार के Cyber Crime में हैकर किसी Copyright कानून का उल्लंघन करता है, यह साइबर अपराध का एक हिस्सा है जिसका अर्थ है कि कंप्यूटर या इंटरनेट के माध्यम से की गई चोरी. इसके अंतर्गत पहचान की चोरी, पासवर्ड की चोरी, सूचना की चोरी, इंटरनेट समय की चोरी आदि शामिल हैं.

3. Cyber Stalking: यह Cyber Crime सोशल मीडिया साइट्स में ज्यादा देखने को मिलता है. इसमें Stalker किसी इंसान को बार-बार गंदे मेसेज या ईमेल कर के उसे परेशान और उत्पीड़ित करते हैं.

इसमें Stalker अक्सर छोटे बच्चो और ऐसे लोगों को अपना शिकार बनाते हैं जिन्हें इन्टरनेट की ज्यादा जानकारी नहीं होती है. इसके बाद Stalker उस इंसान को Blackmail करना शुरू कर देते हैं इससे इंसान की ज़िन्दगी काफी तकलीफदायक हो जाती है.

4. Identity Theft: इस प्रकार का Cyber Crime आजकल काफी ज्यादा देखने को मिलता है. इसमें हैकर उन लोगों को टारगेट करते हैं जो ऑनलाइन Cash Transactions और बैंकिंग सर्विस जैसे Google Pay, Phonepe, Paytm का इस्तेमाल करते हैं.

Hackers किसी इंसान का पर्सनल डाटा जैसे अकाउंट नंबर, डेबिट कार्ड डिटेल, इन्टरनेट बैंकिंग डिटेल्स आदि जानकारी किसी तरह से हासिल कर के उसका सारा पैसा निकाल लेते हैं जिससे उस इंसान को काफी ज्यादा आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ता है.

5. Malicious Software: ऐसे बहुत सारे खतरनाक सॉफ्टवेर हैकर द्वारा बनाए जाते हैं तो किसी भी इन्टरनेट से कनेक्ट कंप्यूटर या मोबाइल के डेटा को न सिर्फ चुरा सकते हैं बल्कि उसे डिलीट भी कर सकते हैं, साथ ही इन सॉफ्टवेर की मदद से हैकर आपके पूरे System को क्रैश कर सकते हैं. 

ये Softwares कई प्रकार के होते हैं जैसे Malware, Spyware, Virus, Ransomware तथा Worms. Hackers इस प्रकार के सॉफ्टवेर को ज्यादातर किसी लिंक, Pop-up मेसेज या Email के माध्यम से दुसरे कंप्यूटर में भेजते हैं और लुभावने तरीको से लिंक को टच करने को बोलते हैं.

अगर वह इंसान लिंक पर टच कर देता हैं तो Computer का पूरा कन्ट्रोल हैकर के हाथों में चला जाता है.

6. Phishing: इस प्रकार के Cyber Threat में हैकर किसी विश्वसनीय संस्था या बैंक के रूप में किसी इंसान को कोई मेसेज या Email भेजता है जो देखने पर बिलकुल मान्य लगता है. इसके पीछे हैकर का मकसद उस इंसान की संवेदनशील जानकारी जैसे बैंक अकाउंट नंबर, डेबिट कार्ड, आधार कार्ड आदि जानकारी लेकर उसे आर्थिक नुकसान पहुचाना होता है.

7. Child Pornography and Abuse: इस प्रकार के Cyber Crime में हैकर ज्यादातर Chat Rooms का इस्तेमाल करते हैं और खुद के पहचान को छुपा कर शिष्टाचार के साथ बात करते हैं.

छोटे बच्चो या अवयस्क लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं होती और धीरे धीरे हैकर बच्चो को Child Pornography के लिए बाधित करते हैं. इसके अलावा बच्चे डर की वजह से अपने माता-पिता को कुछ बता भी नहीं पाते हैं.

8. Man in The Middle(MITM) Attack: इस प्रकार के Cyber Crime में जो Attack करने वाला हैकर होता है वह दो लोगों के संचार की जासूसी करते रहता है और कुछ समय बाद उन दो लोगों में से एक बन कर सामने वाले से जरुरी इनफार्मेशन, और संवेदनशील डेटा जैसे बैंक, Debit, Credit कार्ड डिटेल्स आदि. इससे सामने वाले इंसान को पता भी नहीं चलता और हैकर के पास सारी इनफार्मेशन आ जाती है.

9. Denial of Services(DoS): DoS Attack का मुख्य उद्देश्य किसी नेटवर्क या Website की ट्रैफिक को कम करना है. इस अटैक में हैकर किसी नेटवर्क या Website पर अचानक से बहुत ज्यादा ट्रैफिक ला कर नेटवर्क सिस्टम को कमजोर कर देते हैं. 

इसके साथ ही जो बहुत सारे Services होते हैं जैसे Email, Yahoo, Hotmail आदि. इनमे जब अचानक से बहुत ज्यादा ट्रैफिक आ जायेगा तो कोई भी यूजर अगर लाग इन करने जाएगा तो यूजर उस सर्विस को यूज़ ही नहीं कर पायेगा.

10. Spoofing: इस प्रकार के Cyber Attack में Hacker की अन्य इंसान की पहचान(Identity) का इस्तेमाल कर के किसी बड़े Server या बड़ी कंपनी के सिस्टम में अटैक कर सकता है. इस अटैक का सहारा लेकर कोई हैकर किसी की ज़िन्दगी बर्बाद कर सकता है.

11. Salami Slicing Attack:- “सलामी स्लाईसिंग अटैक” को “सलामी धोखाधड़ी” भी कहते हैं. ऐसे Cyber Crime में साइबर अपराधी बहुत सारे छोटे-छोटे अटैक कर के एक बड़े अटैक को अंजाम देता है. हमलावर ग्राहकों की जानकारी जैसे बैंक/डेबिट कार्ड के डिटेल्स का इस्तेमाल कर के बहुत छोटी मात्रा में पैसे की कटौती करते हैं.

बहुत कम मात्रा में पैसे की कटौती होने की वजह से ग्राहक Slicing से अनजान रहते हैं और इसकी शिकायत भी नहीं करते हैं जिससे हैकर का पता नहीं चल पाता है. यह केवल समय-समय पर छोटे वेतन वृद्धि से लाभ प्राप्त करने की एक रणनीति है.

See also  REET Admit Card 2021 Exam Date Roll Number Download

इनके अलावा और भी बहुत सारे साइबर हमले होते हैं, समय के साथ साथ इनके नए नए प्रकारों का भी पता चल रहा है.

Cyber Security के प्रकार (Types of Cyber Security in Hindi)

Cyber Security in Hindi में यूजर को नेटवर्क की अलग-अलग परतों में अलग-अलग सुरक्षा प्रदान की जाती है. ऊपर बताये सभी अपराध ऑनलाइन किये जाते हैं और उन्हें रोकने के लिए 6 सर्वश्रेष्ठ साइबर सुरक्षा कुछ इस प्रकार हैं-1. Network & Gateway Security – इसे Network की पहली परत कहा जा सकता है. आपने Computer में Firewall का नाम तो जरुर सुना होगा. यह एक Network के लिए ऐसी दीवार होती है जो सिर्फ सुरक्षित चीजों को प्रवेश करने की अनुमति देती है तथा असुरक्षित Threats को बाहर रखती है.

2. Data Loss Prevention(DLP) – इस प्रक्रिया में यूजर के सभी Data को पूरी तरह एनकोड का दिया जाता है जिसमे SSL(Secure Sockets Layer) का प्रयोग किया जाता है. इस सुरक्षा के अंतर्गत सुचना या डेटा को Unaotherized Access से दूर रखने के लिए एन्क्रिप्ट कर दिया जाता है.

3. Application Security – इसके द्वारा Network में उपयोग की जा रही Applications को एक सुरक्षा प्रक्रिया से गुज़ारा जाता है. जिससे उस Application की कमियों को दूर किया जा सके. साथ ही अगर वह Application असुरक्षित है तो उसे Network से बाहर कर दिया जाता है.

4. Email Security – अगर आप Gmail का उपयोग करते हैं तो आपने देखा होगा की कुछ Emails Spam फोल्डर में चली जाती हैं. ऐसा इसलिए होता है क्योकि Network में Email Security के लिए Spam Filters लगाए जाते हैं. जिससे हानिकारक Emails को यूजर की पहुच से दूर रखा जा सके क्योकि अधिकतर अपराध Email Phishing के जरिये ही किया जाता है.

5. Antivirus Security – सभी लोग अपने Computer में Antivirus लगा कर रखते हैं. यह हमारे Computer को विभिन्न प्रकार के Viruses से बचाता है. आखिर Computer में ही हमारी सारी सेंसिटिव इनफार्मेशन और प्राइवेट Files स्टोर्ड रहती हैं इसीलिए इसे सुरक्षित रखना बहुत जरुरी होता है.

6. Network Access Control – इसके द्वारा Unauthorized उपयोगकर्ताओं और उपकरणों को नेटवर्क से बाहर रखने का कार्य किया जाता है. NAC नेटवर्क की कार्यक्षमता की सुरक्षा करती है, यह सुनिश्चित करती है कि केवल अधिकृत उपयोगकर्ता और डिवाइसों तक ही इसकी पहुँच हो. नेटवर्क ऑपरेटर तय करते हैं कि कौन से उपकरण या एप्लिकेशन एंडपॉइंट सुरक्षा आवश्यकताओं का अनुपालन करते हैं और उन्हें नेटवर्क एक्सेस की अनुमति दी जाएगी या नहीं.

Cyber Security के फायदे (Benefits of Cyber Security in Hindi)

  • इसकी मदद से हम Unauthorized Access से सुरक्षित रह सकते हैं जिससे किसी भी प्रकार के डाटा लोस का खतरा नहीं रहेगा.
  • Cyber Security की सहायता से हम अपने नेटवर्क को सुरक्षित रख सकते हैं जिससे निश्चिन्त हो कर इन्टरनेट का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • आपके पर्सनल और संवेदनशील डाटा को एक सुरक्षा कवच प्रदान किया जाता है ताकि हैकर आपका आर्थिक या मानसिक शोषण न कर सके.
  • सुचना सुरक्षा बेहतर होती हैं और व्यावार प्रबंधन में भी वृद्धि होती जाती है.
  • आजकल ऑनलाइन कैश Transaction काफी प्रचलन में है इसीलिए साइबर सुरक्षा के साथ सुरक्षित Transaction कर सकते हैं.

Cyber security services in Hindi [ साइबर सिक्योरिटी सर्विसेज ]

कई कंपनियां साइबर सुरक्षा सेवाओं की पेशकश करेंगी जो विभिन्न प्रकार के उपकरणों का उपयोग करके आपकी जानकारी की निगरानी और सुरक्षा करने में मदद करती हैं। घुसपैठ की एक बहुत कुछ सरल से उपजी है। इसके कुछ उदाहरण सॉफ़्टवेयर को अपडेट करना, एक भाला फ़िशिंग ईमेल खोलना या गलती से मैलवेयर इंस्टॉल करना भूल रहे हैं। मैलवेयर जैसे वायरस असली वायरस की तरह होते हैं। आप उन्हें उनके शुरुआती चरणों में पकड़ना चाहते हैं। साइबर सुरक्षा सेवाएँ आपके डेटा की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए विशेष रूप से लागू कई सुरक्षा प्रोटोकॉल, परीक्षण और दिनचर्या को मिलाकर इस प्रक्रिया को सरल बनाने का प्रयास करती हैं।

साइबर के खतरे फेलने के प्रकार [Type of cyber threats, in Hindi]

Internet पर Cyber Security को खतरा कई प्रकार से हो सकता है –

Ransom ware (रैनसमवेयर)

Ransomware क्या है और इससे कैसे बचें?

हाल ही में ही Ransomware क्या है (What is Ransomware in Hindi) इस बात को लेकर लोगों में बहुत सनसनी है. ऐसा इसलिए क्यूंकि May 12th 2017 को Internet के इतिहास में सबसे बड़ा cyberattack दुनिया ने देखा. ये बात शायद आपको पता ही होगी की एक Ransomware जिसका नाम है WannaCry और जिसने पुरे दुनिया को थरहरा दिया कुछ ही पलों में. इसका मुख्य टारगेट था Europe और पश्चिम के देश.

WannaCry ने Windows OS की एक vulnerability(दोष) का भरपूर फ़ायदा उठाया. जिसकी मदद से इसने बहुत से computers को अपने चपेट में कर लिया. कुछ ही घंटो में इसने लगभग 200,000 Machines को infect कर चूका था. और तो और बड़े बड़े company जैसे Renault, NHS इससे प्रभावित थे. तो इसीलिए आज मैंने सोच क्यूँ न आप लोगों को पूरी जानकारी दे दी जाये Ransomware क्या है और ये कैसे attack करता है इसके बारे में. तो देरी किस बात की चलिए जानते हैं आकिर Ransomware क्या है और ये इससे कैसे बचा जाये.

RansomeWare क्या है (What is Ransomware in Hindi)

Ransomware Kya Hai in Hindi Ransomware एक प्रकार का sophisticated Malware है जिसे की एक खास मकसद से बनाया गया है. यदि यह Malware हमारे computer system में लोड हो जाये तो कुछ ही seconds में ये सारी files और documents को encrypt या लॉक कर देगा और हमें अपने system को चलाने से भी रोकेगा. यहाँ तक की हम अपना documents या कुछ जरूरी चीज़ तक नहीं खोल सकते. और यदि हम खोलना चाहे तब हमें कुछ password type करना होगा जो की उसी Ransomware बनाने वाले के पास मेह्जूद होता है और जिसे पाने के बदले में हमें कुछ पैसे उसे देने होते हैं.

See also  Free Meal for Poor People Details

जैसे की हम बहुत की कम लोग अपना data backup कर के रखते हैं. और यदि ये Ransomware लोड हो जाये तब सारी Documents और Data हमारे Control से चली जाएगी. जिससे हमे बहुत ही नुकशान होगा. और इस प्रकार के चीज़ें हमेशा चलती रहती है क्या पता ये आपके पड़ोस में में चल रहा हो. मुख्यतः ये Spam links या Email के द्वारा ही हमारे computer या Mobile को आता है.

Types of Ransomware in Hindi

अभी के दोर में देखा जाये तो ये मुख्यतः दो प्रकार होते हैं. जिसे की ये Attackers इस्तमाल करते हैं अपना मकसद पूरा करने के लिए.

  1. Encryptors :- ये एक खास प्रकार की Ransomware हैं जिसे Advanced Encryption Algorithms का इस्तमाल करके बनाया गया है. इसे कुछ इस तरह से बनाया गया है की ये कुछ ही समय में आपके मशीन को पूरी तरह से Encrypt कर देगा. और बिना Encryption Key के इसे खोलना लगभग नामुमकिन है. जिसे देने के लिए ये पैसे मांगती है नहीं तो हमेशा के लिए आपका सारा Documents बर्बाद हो जायेगा. उदहारण के तोर पे CryptoLockerLockyCrytpoWall इनमें मुख्य हैं.
  2. Lockers :- इस प्रकार के Ransomware बहुत ही ज्यादा Dangerous हैं जो की किसी user को अपने ही system को चलने से Lock कर देते हैं. ये directly आपके Computer System के Operating System को ही लॉक कर देते हैं. जिससे की आप कोई भी Apps या अन्य Program को access नहीं कर सकते. यहाँ Files Encrypt नहीं होती लेकिन Computer को खोलने के लिए Attackers पैसों की demand करते हैं. उदहारण के तोर पे Police-themed Ransomware..

यहाँ तक की कुछ Lockers के नए version में system के MBR (Master Boot Record) को भी लॉक कर दिया जाता है. आप के जानकारी के लिए बता दूँ की MBR वो section होता है Hard Drive जो Operating System को start होने में मदद करता है. और यदि booting ही न हो तब computer start ही नहीं हो सकता. और इसी दोरान कुछ Message screen में flash होते हैं जिसमे पैसे देने का जिक्र होता है उदहारण के तोर पे Satana और Petya.

इन सभी में Crypto-Ransomware सब से ज्यादा प्रसिद्ध है. एक रिपोर्ट से पता चला है की दुनिया में सबसे ज्यादा लोग इसी Ransomware से सबसे जयादा प्रभावित हुए हैं.

Characteristics of Ransomware in Hindi

  • इसके Encryption को तोडना बहुत ही मुस्किल बात है, इसका मतलब ये बहुत की उन्नत किस्म के Encryption Algorithm इस्तमाल करते हैं जिससे इसको खोलना बहुत ही मुस्किल बात है ऐसा करने से हो सकता है की आपके सारे Data loss होने का भी खतरा है.
  • ये बहुत ही चालाकी से आपके आपके सारे files के नाम बदल सकता है जिससे आपको बिलकुल भी पता नहीं चलेगा की कोन सी data इससे प्रभावित हुई.
  • इसमें किसी भी प्रकार के files को Encrypt करने की क्षमता है जैसे की documents,video, audio और अन्य प्रकार के Files.
  • ये किसी भी files का extension बदल सकता है.
  • कई बार ये एक message या एक image दिखता है जिसमे लिखा होता है की आप पैसे देने के बाद ही अपना कंप्यूटर इस्तमाल कर सकते हैं.
  • ये payment Bitcoin के रूप में लेते हैं ताकि इन्हें कोई track न कर सके.
  • Ransom Payment देने का भी एक time limit होता है जिससे की बिच victim को पैसे देने होते हैं नहीं तो payment amount बढ़ा दिया जाता है.
  • ये बहुत ही advanced Algorithms का इस्तमाल करते हैं.
  • यदि दुसरे Computer System भी infected System से जुड़े हुए हो तब उनको भी infection होने के chances बढ़ जाता है.

इनकी विसेस्तायें इतने में खत्म नहीं हुई है इनकी लिस्ट दिन ब दिन बढती ही जा रही है.

Ummeed hai aapko hamari iss class mein jo bhi bataya gaya h, wo poori tarah se samjh mein aaya hoga…. Yadi haan toh hamari aage aane wali classes ko bhi join kare Aur apna feed…..Dhanyawaad.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *