3.Contant writing me career। contant writer kaise bane #done

Career in Contant Writing- क्या आप कंटेंट राइटिंग में कैरियर बनाना चाहते हैं। अगर आप Contant Writing में Career बनाना चाहते हैं, तो इसके बारे में आपको सारी डिटेल में जानकारी इस class में मिल जाएगी। इस class में मैंने Content Writer kaise bane इसके बारे में हर जानकारी दी है। जोकि आपके Content Writing career के लिए बहुत हेल्फुल साबित होगी। यंहा पर हम आपको बताएंगे कि Contant Writing के कैरियर की शुरआत कैसे करें। वर्तमान में इसमे Career के क्या ऑप्शन हैं। क्या contant writing course भी होता है। कंटेंट राइटिंग में कैरियर के लिए जरूरी बातें क्या होती हैं। इन सभी के बारे में हम इस class आपको बताएंगे।

1.Contant Writing me Career Kaise Banaye

2.Career Scope in Contant Writing

3.Contant Writing Tips

4.Course for Contant writing

5.Content Marketing क्या है और क्यों जरुरी है?

6.कंटेंट मार्केटिंग क्या है (What is Content Marketing in Hindi)

Agar aapko class achhi lagi tho class join kare

Contant Writing me Career Kaise Banaye


अगर आपका क्रिएटिव माइंड है। आपकों लिखना अच्छा लगता है, तो आपका contant writing में अच्छा कैरियर बना सकते हैं और अपनी writing skills से बहुत पैसा कमा सकते हैं। अगर आपको Contant writing का शौक है, तो इसमें कैरियर बनाने के लिए जरूरी नही की आप कोई कोर्स करें। अगर आपको contant writing के बारे में बिल्कुल जानकारी नही है, तो आप writing के बेसिक स्किल सीखने के लिए Creative writing में सर्टिफिकेट या डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं। इसके अलावा आप जर्नलिज्म एंड मास कॉम्युनिकेशन में डिग्री डिप्लोमा कोर्स कर इस फील्ड में कैरियर बना सकते हैं। कंटेंट राइटिंग में कैरियर के लिए आपकी भाषा पर अच्छी पकड़, आकर्षक लेखन शैली, व्याकरण संबंधित कोई त्रुटि न हो। 


कंटेंट राइटिंग में डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स की फीस 15 से 50 हजार तक होती हैं। गवर्नमेंट कॉलेज में 4 से 5 हजार में ही ये कोर्स कर सकते हैं। मास कॉम्युनिकेशन कोर्स की फीस 50 से 80 हजार प्रतिबर्ष होती है। गवर्नमेंट कॉलेज की फीस 10 से 15 हजार प्रतिबर्ष होती है। आप अपनी सुबिधा के अनुसार इनमें से किसी भी कोर्स के माध्यम से Contant writing में कैरियर बना सकते हैं।


Career Scope in Contant Writing


अगर आप किसी संस्थान में जॉब नही भी करना चाहते हैं, तो आप खुद का ब्लॉग, वेबसाइट स्टार्ट कर सकते हैं। इससे आप बहुत अच्छा पैसा कमा सकते हैं। ब्लॉग या वेबसाइट से पैसा कमाने के लिए आपको अपनी वेबसाइट पर अच्छे- अच्छे post लिखने होंगे। जिसके बाद आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को गूगल एडसेंस से एप्रूव्ड कराकर एडसेंस के वेबसाइटपर  एड्स लगाकर अच्छी खासी इनकम कर सकते हैं। आप दूसरों के ब्लॉग- वेबसाइट के लिए भी आर्टिकल लिख सकते है। जिससे आप अच्छी- खासी आमदनी कर सकते हैं। इसके अलावा आप यूट्यूब वीडियो के लिए भी Contant लिख सकते हैं। एक तरह से कंटेंट राइटिंग में कैरियर के एक नही अनेको अवसर उपलब्ध हैं।


वर्तमान समय मे कंटेंट राइटिंग का बहुत ही ज्यादा कैरियर स्कोप है। मौजूदा दौर में Contant Writing में शानदार कैरियर बनाया जा सकता है। अगर आपको कंटेंट राइटिंग की सही समझ है। आपको अच्छा लिखना आता है। तब तो इस इंडस्ट्री में आपके लिए काम की कमी नही है। आप कंटेंट राइटिंग के तौर पर वेबसाइट मैगजीन्स, टीवी चंनेल्स, रेडियो, न्यूज़पेपर के लिए कंटेंट राइटिंग का काम कर सकते हैं।
कंटेंट राइटिंग कंपनी और विज्ञापन एजेंसी में कंटेंट राइटर की काफी डिमांड रहती है। इसके साथ ही फ़िल्म इंडस्ट्री में भी आप Contant writing में हांथ आजमा सकते हैं। एक तरह से आजके समय मे contant writer के बिना कोई काम संभव ही नही। अगर मार्किट में कोई प्रोडक्ट लांच होता है, तो कंटेंट राइटर उस प्रोडक्ट के लिए रिव्यु,आदि लिखते है। कंटेंट राइटर ही विज्ञापन, वेबसाइट के लिए कंटेंट लिखते हैं। कंटेंट writing में फुल टाइम और पार्ट टाइम, फ्रीलांसर के तौर पर भी भरपूर मौके मिलते हैं। 


Contant Writing Tips


अगर आपको कंटेंट राइटर बनना है, तो आपको पढ़ने का भी शौक होना चाहिए। इसके लिए आप जिस भी सेक्टर के लिए contant writing करना चाहते हैं, उससे रीलेटेड ज्यादा से ज्यादा बुक्स पढ़े। जिससे आपको उस सेक्टर की ज्यादा से ज्यादा जानकारी होगी और आप अच्छा लिख पाएंगे।
दूसरों के कंटेंट को कॉपी न करें, खुद का कंटेंट लिखें। शुरआत में थोड़ा प्रोब्लम आती है धीरे- धीरे सब सीख जाएंगे। मिस्टेक से घबराए नही। मनुष्य का स्वभाव ही ऐसा है कि वह गलतियों से ही सीखता है। 
जिस भी भाषा मे आप कंटेंट राइटिंग करें, उस भाषा पर आपकी अच्छी पकड़ होनीं चाहिए। ग्रामर की अशुद्धियों से बचे।
आपका माइंड क्रिएटिव होना चाहिए। अपनी लेखन शैली के द्वारा अपने ऑडियंस या कस्टमर को संतुष्ट कर करने की क्षमता। पॉइंट टू पॉइंट लिखने की आदत डालें, ऐसा नही आप जो भी लिखेंगे, सही है। आप अपने लेख के माध्यम से जो भी जानकारी अपने ऑडियंस को देना चाहते है, उसके बारे में पॉइंट टू पॉइंट जानकारी दें ,ज्यादा इधर- उधर भटकाए नही।
कंटेंट राइटिंग में कैरियर के लिए आपको टेक्नोलॉजी फ्रेंडली होना चाहिए। आपको कंप्यूटर और इंटरनेट संचालन की अच्छी समझ हो। सोशल मीडिया पर भी अपडेट रहें।
अगर आप डिजिटल मीडिया के लिए लिख रहे हैं, तो आपको SEO, डिजिटल मार्केटिंग की बेसिक समझ हो।


Course for Contant writing


सर्टिफिकेट इन कंटेंट राइटिंग
डिप्लोमा इन कंटेंट राइटिंग
सर्टिफिकेट इन क्रिएटिव राइटिंग
डिप्लोमा इन क्रिएटिव राइटिंग
डिप्लोमा इन जर्नलिज्म एंड मास कॉम्युनिकेशन
बैचलर इन मास कॉम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म
मास्टर इन मास कॉम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म


इस फील्ड में आमदनी की कमी नही है। Contant writing एक ऐसा फील्ड है, यंहा पर आप 20 हजार से कई लाख रुपये प्रतिमाह कमा सकते हैं। अगर आप किसी भी संस्थान में जॉब करते है, तो आप शुरुआती सैलेरी 15 से 20 हजार आसांनी से पा सकते हैं। अगर आप फ्रीलांसिंग के तौर पर काम करते हैं, तो आप अपने per आर्टिकल के हिसाब से रुपये चार्ज कर सकते है। जोकि 2 हजार से कई 10 हजार रुपये प्रति आर्टिकल भी हो सकता है। इसके अलावा अगर खुद की वेबसाइट या ब्लॉग चलाते हैं, तो भी आप महीने में 20 हजार से लाखों रुपये प्रतिमाह कमा सकते हैं। अक्सर लोगों को ब्लॉग से पैसे कमाना बहुत आसान लगता है, जितना आपको लगता है, इतना आसान है नही। इसके लिए आपको बहुत मेहनत करनी होगी

Content Marketing क्या है और क्यों जरुरी है?

क्या आपको Content Marketing क्या है के बारे में पता है ? शायद आपने इसके विषय में कहीं न कहीं सुना भी होगा लेकिन आपके पास शायद इसके विषय में पूरी जानकारी नहीं है. लेकिन घबराने की जरुरत नहीं है क्यूंकि आज हम इसी के वैसे में पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे.

अगर आप किसी तरह से किसी Business, marketing या advertising की दुनिया ये संपर्क रखते हैं तब आपने जरुर content marketing के बारे में सुना होगा. आप शायद कभी न कभी इन निचे लिखे चीज़ों से content marketing के बारे में सुना होगा :

Content Marketing एक ऐसी Marketing Technique है जहाँ की ऐसे अच्छे Content create किये जाते हैं और उन्हें distribute किया जाता है जो की Relevant या महत्वपूर्ण हो और इसके साथ वो consistent भी हो जिससे की ये ज्यादा से ज्यादा audience को अपनी और attract कर सके. और finally इसका ये मकसद रहता है की कैसे profitable customer action को अपनी और खिंच सके. लेकिन अब सवाल उठता है की आखिर ये Content Marketing सही माईने में क्या है ? यदि आपके मन में ये सवाल उठ रह है तब मेरे पास उन सवालों के जवाब मेह्जुद हैं. तो फिर बिना देरी किये चलिए जानते हैं की ये कंटेंट मार्केटिंग क्या होता है के विषय में पूरी जानकारी.

कंटेंट मार्केटिंग क्या है (What is Content Marketing in Hindi)

अगर में Content Marketing के बारे में बताऊँ तो ये एक ऐसा उपाय है जिसके माध्यम से Valuable content को बनाया जाता है और उसे share भी किया जाता है जिससे की ये customers को अपनी और आकर्षित कर सके और उन्हें repeated buyer में बदल सकें. आप जो भी content share करते हैं वो आपके उन चीज़ों से काफी समानता रखता हो जो आप बेचते हैं, या हम ये भी कह सकते हैं की आप लोगों को अच्छी जानकारी देते हैं, उन्हें शिक्षित करते हैं ताकि वो आपके विषय में जान सकें, आपको पसंद कर सकें और आपके ऊपर विस्वास कर सकें जिससे वो आपके साथ आगे business कर सकें.

See also  SPMVV Results 2021 Degree, DDE exam result date and link

ontent Marketing के Examples क्या है

वैसे देखा जाये तो Content Marketing बहुत से प्रकार के हैं. इसलिए सभी को cover करना हमारे पक्ष में मुमकिन नहीं है क्यूंकि फिर भी मैंने कुछ ऐसे उदहारण के बारे में निचे लिखा है जो की आपको इन्हें समझने में मदद करेंगे. यहाँ मैंने 5 प्रमुख उदहारण के विषय में जानकारी दिया है.

1. Infographics. ये मुख्यतः लम्बे, verticla graphics होते हैं जिसमें Statistics, charts, graphs और दुसरे जानकारी को लिखा जाता है. इनमें Images के साथ उनमें सम्बंधित जानकरी भी प्रदान की जाती है. आपके marketing के लिए Infographics बहुत effective बन सकते हैं अगर उन्हें सही तरीके से बना जाये और उन्हें सही तरीके से Share किया जाये. इन Infographics को आप खुद भी बना सकते हैं या किसी दुसरे professional के द्वारा भी बना सकते हैं.

2. Webpages. Normal Webpages और एक Content Marketing Webpages में काफी अंतर है. क्यूंकि यदि आप किसी Webpages को अच्छी तरीके से लिखें और उन्हें सही तरीके से SEO optimized करें तब इससे आप बहुत से लोगों को अपनी और आकर्षित कर सकते हैं. क्यूंकि ये आसानी से Rank हो जायेगा जो की आपके Brand के लिए बहुत ही अच्छा है.

3. Podcasts. Content Marketing में Podcasts का भी काफी महत्व है. ये आपके Contents को लोगों के सामने अच्छे तरीके से प्रदर्शित करता है. जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग आपके विषय में जान सकें. इससे आपके Brand की publicity भी हो जाती है.

4. Videos. कहते हैं की Text की तुलना में Videos बहुत ही आकर्षक होते हैं और इन्हें आसानी से share भी कर सकते हैं. Videos में customers आपके content के विषय में अच्छे तरीके से जानते हैं और उसे देखते हैं जिससे उनमें आपके content को लेकर विस्वास उत्पन्न होता है. इससे आपके Brand की value बढ़ जाती है जो की आपके Branding Value के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं.

5. Books या Text. Text एक बहुत ही महत्वपूर्ण तरीका है content marketing के लिए. यहाँ Marketers अच्छे content लिखकर लोगों को अपनी तरफ आकर्षित कर सकते हैं. वैसे ही आप Books का इस्तमाल एक Marketing tool के हिसाब से भी कर सकते हैं. इससे आपका Branding Value भी बढ़ता है और लोगों का आपके ऊपर विस्वास भी बढ़ जाता है.

क्यूँ Content Marketing जरुरी है?

बात उठता है की आखिर ये Content Marketing क्यूँ जरुरी है. देखा जाये तो Content Marketing क्या है समझने से ज्यादा जरुरी है ये है की ये समझना की आखिर ये Content Marketing क्यूँ जरुरी है. इससे पहले हमें buying cycle के मुख्य चार steps को समझना ज्यादा जरुरी है :

1. Awareness. Awareness का होना बहुत ही जरुरी है क्यूंकि Customers को ये पता ही नहीं होता है की उनके problem का एक Solution भी मेह्जुद है.

2. Research. एक बार Customer को ये पता चल जाये की उनके problem का एक solution भी है तब वो अपने आपको educate करने के लिए research करेंगे. उदहारण के स्वरुप एक car buyer एक नयी car लेने से पहले अलग अलग cars के सम्बंधित में research करते हैं ताकि वो ये जान सकें की उनके लिए कोन सा सही रहेगा.

3. Consideration. अब customer अलग अलग products को different vendors से compare कर सकते हैं ताकि उन्हें ये पता चल सके की उन्हें सही price में कोन सा high quality product मिल सके.

4. Buy. और Finally, Customer अपना decision लेता है और transaction करने के लिए आगे बढ़ता है.
Traditional advertising और marketing दोनों बहुत ही कारगर सिद्ध होते हैं जब हम second दो steps की बात करें तब. Content marketing लेकिन buying process के पहले दो stages में ज्यादा कारगर सिद्ध होता है. इससे solutions के प्रति awareness और consumers को educate किया जा सकता है product के विषय में की consumers की राय को भी सुधारा जा सकता है.

Content marketing और भी additional benefits प्रदान करते हैं क्यूंकि ये दुसरे digital marketing channels को भी support करते हैं. ये Social Media के लिए additional content भी प्रबंध करता है.

Great Content

Content Marketing के लिए अच्छे content बहुत ही जरुरी हैं क्यूंकि अगर कोई consumer आपके product के विषय में देखेगा तो वो पहले content ही पड़ेगा और अगर उसे Content अच्छा लगेगा तब वो उसे खरीदने के बारे में सोच सकता है. अगर आपका content ही अच्छा और interesting नहीं है तब तो बात आगे बढ़ने का सवाल ही नहीं उठता है. इसलिए अगर आपका कोई Blog है तब इसके content को बहुत ही अच्छा लिखना होगा क्यूंकि यही आपके Blog का सबसे महत्वपूर्ण चीज़ है. इसलिए हमेशा ये कोशिश कीजिये की अपने Blog पर बेहतर contents प्रदान करने की कोशिश करें.

Content Marketing का भविष्य क्या है

ये सवाल अक्सर लोग पूछा करते हैं की “Content Marketing का भविष्य क्या है ?” वैसे देखा जाये तो इसका बहुत ही आसान है की कुछ भी नहीं बदलेगा. Technology बदल सकता है लेकिन Content Marketing के basics नहीं बदलेगा. Technology मनुष्य के फितरत को बदल नहीं सकता, हाँ लेकिन ये उसे amplify जरुर कर सकता है.

लोगों के Problems और चाहत नहीं कम होने वाले. उन्हें information चाहिए जो की उनके problems को हल कर सके और उनके चाहतों को पूर्ण कर सके. ये नहीं बदलेगा. Articles को पढने के तरीके बदल सकते हैं. लेकिन Content को लिखने में कोई बदलाव नहीं होगा. जैसे के हम जानते हैं की धीरे धीरे Competition का level बदल रहा है तो ऐसे में अगर इस race में जितना है तब खुद को समय के साथ बदलना पड़ेगा. अलग अलग Brand और individuals जो की अपने Content की quality को बढ़ा रहे हैं वो इस नए Competition में हमेशा सफल हो रहे हैं.

इसलिए भविष्य की चिंता छोड़ कर बस अपने काम पर ही ध्यान दें, और ज्यादा से ज्यादा बेहतर content लिखते रहें जो की आपके Brand और Products को value प्रदान करें. ये ही अच्छे content marketing का मुख्य राज है. जैसे की हम सभी को ये भली भांति पता है की जो दिखता है वही बिकता है.

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को कंटेंट मार्केटिंग क्या है (What is Content Marketing in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को Content Marketing के बारे में समझ आ गया होगा. मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

मेरा हमेशा से यही कोशिश रहा है की मैं हमेशा अपने readers या पाठकों का हर तरफ से हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा. आपको यह class Content Marketing क्या है कैसा लगा हमें comment लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले.

कंटेंट क्रिएशन (Content Creation)
कंटेंट क्रिएशन का मतलब टारगेट ऑडिएंश के लिए जरूरी जानकारी के साथ अपडेट डेटा का चित्रण है। एक अच्छे करियर कंटेंट मार्केटिंग के लिए लेखक को सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (एसईओ) से अच्छी तरह सुसज्जित होना चाहिए। कंटेंट को पढ़ने के लिए मनोरंजक बनाने के लिए कंटेंट में अच्छी मात्रा में वीडियो, पिक्चर्स, इन्फोग्राफिक्स, इल्युस्ट्रेशन होने चाहिए। कंटेंट को हेडिंग और सबहेडिंग में भी डिवाइड किया जाना चाहिए जिससे पढ़ना और आसान हो जाता है।

कंटेंट डिस्ट्रिब्यूशन (Content Distribution)
यह सुनिश्चित करना भी महत्वपूर्ण है कि आपके द्वारा बनाई गई कंटेट सही ऑडिएंश तक पहुंचे। अगर कंटेंट की पहुंच को व्यूज नहीं मिलते हैं तो इसका कोई फायदा नहीं होगा। कंटेंट डिस्ट्रिब्यूशन आमतौर पर प्लेटफार्म, क्वेश्चन और आंसर साइटों, सोशल मीडिया द्वारा किया जाता है।

स्टैटिस्टिक (statistic)
स्टैटिस्टिक का ध्यान रखना कंटेंट मार्केटर की एक और महत्वपूर्ण भूमिका है। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि एनालिटिक्स हाई हैं। प्रक्रिया कैसे चल रही है, इसकी तुलना करने के लिए कंटेंट मार्केटर द्वारा वीकली या मंथली रिपोर्ट को ट्रैक में रखा जाना चाहिए।

रिसर्च स्किल (Research Skill)
कंटेंट बनाने के लिए स्रोतों से डेटा एकत्र करने, प्रमुख बिंदुओं की पहचान करने, बिंदुओं को नोट करने और उनके आसपास की कंटेंट की प्लानिंग बनाने के लिए बहुत अधिक रिसर्च की आवश्यकता होती है। विभिन्न प्रकार के मार्केटिंग रिसर्च हैं जिन्हें करने की आवश्यकता है। एक उचित और अच्छी तरह से रिसर्च की गई कंटेंट हमेशा यूजर्स के लिए अधिक अट्रैक्टिव होती है।

See also  TN Free Country Chicken Scheme Apply Online 2021 Application Form

एसईओ और अन्य टेक्नीकल स्किल (SEO And Other Technical Skills)
SEO महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपकी कंटेंट के सर्च पेज के टॉप पर होने की संभावना को बढ़ाता है। कंटेंट मार्केटिंग में करियर बनाने के लिए आपको SEO की समझ होनी चाहिए। SEO के कुछ सिग्नीफिकेंट कंपोनेंट रेगुलर इंटर्वल पर कीवर्ड की रेलेवेंट इनपुट, उपयुक्त पेज टाइटल का उपयोग, इमेज, मेटा-डिस्क्रिप्शन और वीडियो हैं। टेक्नीकल स्किल जैसे HTML, CSS का नॉलेज और एनालिटिक्स और एल्गोरिदम की समझ। ये स्किल आपको अन्य कंटेंट राइटरों से आगे बढ़ने में मदद करेंगे। इसमें आप अक्सर वर्डप्रेस और सीएमएस के साथ भी काम करेंगे। इसलिए उनमें एक्सपीरिएंस होना अच्छा है।

डिजाइन और क्रिएटिव स्किल (Design and Creative Skills)
एक कंटेंट मार्केटर के रूप में, आपको अपने कंटेंट में बहुत सारे इमेजेज और वीडियो जोड़ने की आवश्यकता हो सकती है। यह आपके कंटेंट को आकर्षक बनाएगा और पाठक को आकर्षित करेगा। यह निश्चित रूप से आपके ब्रांड को कंटेंट मार्केटिंग में बढ़ावा देगा। इसलिए कंटेंट मार्केटिंग में करियर बनाने के लिए सही डिजाइन और क्रिएटिव स्किल्स का होना जरूरी है।

राइटिंग स्किल और ग्रामर (Writing Skills and Grammar)
यह सुनिश्चित करना भी महत्वपूर्ण है कि आपका कंटेंट ग्रामेटिकल गलत नहीं है और आपके टारगेट ऑडिएंश को समझने के लिए आवश्यक उपयुक्त राइटिंग स्किल है। अच्छी राइटिंग और रीडिंग स्किल होने से किसी भी कंटेंट में मिस्टेक को चेक करने में बहुत मदद मिलती है।

सोशल मीडिया ऑप्टिमाइज़ेशन (Social Media Optimization)
यदि आप कंटेंट मार्केटिंग में एक सफल करियर बनाना चाहते हैं तो सोशल मीडिया ऑप्टिमाइजेशन का नॉलेज इंपोर्टेंट है। यह समझना महत्वपूर्ण है कि आपके कंटेंट का कोई मूल्य नहीं है यदि वह उपलब्ध नहीं है या दर्शकों तक नहीं पहुंची है। कई सोशल एप्लीकेशन का नॉलेज आपको एल्गोरिदम को समझने में मदद करता है और आपको अपने कंटेंट को प्रमोट करने के लिए आइडिया देता है।

विषयवस्तु का व्यापार
सामग्री विपणन के फायदे और नुकसान
मार्गदर्शक
सामग्री विपणन आपको अपने दर्शकों को जोड़ने और संबंध बनाने में मदद कर सकता है, अंततः बिक्री को बढ़ा सकता है। हालाँकि, कुछ चुनौतियाँ हो सकती हैं। इनमें अच्छी सामग्री के विचारों के बारे में सोचना और इसे लिखने के लिए समय निकालना शामिल है।

सामग्री विपणन के लाभ
सामग्री विपणन आपकी मदद करता है:

ब्रांड जागरूकता, विश्वास और वफादारी का निर्माण करें - आपकी सामग्री का उपभोग करने वाले लोग आपके ब्रांड की छाप बनाना शुरू कर देंगे। सूचनात्मक, अच्छी तरह से शोधित सामग्री प्रकाशित करने का अर्थ है कि आपके व्यवसाय को आधिकारिक और भरोसेमंद के रूप में देखा जाएगा। आपके दर्शक जितना अधिक जानकारी के लिए आप पर भरोसा करते हैं, उतनी ही अधिक संभावना है कि वे आपसे खरीदारी करेंगे। अपने व्यवसाय के लिए ब्रांडिंग देखें।
ऐसे दर्शकों तक पहुँचें जो विज्ञापनों से बच सकते हैं - पारंपरिक विज्ञापन के बजाय सामग्री का उपयोग करने से आपको उन संभावित ग्राहकों तक पहुँचने में मदद मिल सकती है जो विज्ञापन अवरुद्ध करने वाले सॉफ़्टवेयर का उपयोग कर सकते हैं या सक्रिय रूप से पारंपरिक विज्ञापन से बच सकते हैं या उनकी उपेक्षा कर सकते हैं।
लागत कम रखें - कोई मीडिया प्लेसमेंट लागत नहीं है और अधिकांश काम घर में ही किया जा सकता है। इसका मतलब है कि आपका खर्च कम रखा जा सकता है।
ट्रैफ़िक और रूपांतरण बढ़ाएँ - गुणवत्ता सामग्री आपके दर्शकों को आपकी वेबसाइट की ओर खींचती है, जिससे वेब ट्रैफ़िक बढ़ता है। एक बार जब वे आपकी साइट पर आ जाते हैं, तो आप उन्हें पंजीकरण करने या खरीदारी करने के लिए मना सकते हैं (अर्थात रूपांतरित)।
अपनी अन्य मार्केटिंग रणनीति का समर्थन करें - कई अन्य मार्केटिंग युक्तियों की सफलता के लिए अच्छी सामग्री महत्वपूर्ण है, जैसे खोज इंजन अनुकूलन, सोशल मीडिया और जनसंपर्क।
सामग्री विपणन के नुकसान
कुछ मुख्य चुनौतियों में शामिल हैं:

लाभ तत्काल नहीं हैं - सामग्री विपणन एक लंबी प्रक्रिया हो सकती है। परिणाम देखने से पहले सबसे अच्छा काम करने वाले को खोजने के लिए आमतौर पर परीक्षण और त्रुटि की अवधि होती है।
कौशल और संसाधन - सामग्री विपणन समय लेने वाला हो सकता है। आपको सामग्री बनाने, इसे अपने मार्केटिंग चैनलों पर प्रकाशित करने और प्रभाव का विश्लेषण करने की आवश्यकता है। इन्फोग्राफिक्स और वीडियो जैसे कुछ प्रकार की सामग्री बनाने के लिए, आपको अपने इन-हाउस कौशल को आउटसोर्स या विकसित करने की आवश्यकता हो सकती है।
सामग्री विचार ढूँढना - प्रभावी नए विषयों और प्रारूपों के लिए विचारों के साथ आना मुश्किल हो सकता है। जैसे-जैसे आप आगे बढ़ेंगे यह आसान होता जाएगा और आप पिछली सामग्री के प्रभाव का विश्लेषण कर सकते हैं।
मूल्यांकन - वेब ट्रैफ़िक और ऑनलाइन रूपांतरणों पर आपकी सामग्री मार्केटिंग के प्रभाव को मापना अपेक्षाकृत आसान है। ब्रांड प्रतिष्ठा, जागरूकता और वफादारी पर आपकी सामग्री के प्रभाव को निर्धारित करना कठिन हो सकता है।
review of class:
कंटेंट मार्केटिंग क्या है (What is Content Marketing in Hindi)
Content Marketing किसी भी प्रोडक्ट को बेचने का एक Digital तरीका है। जिसमे किसी भी एक Product को Select करके उससे सम्बंधित कई प्रकार के कंटेंट बनाये जाते है, जिसमे Podcast, Video, Infographics, और Blog आदि शामिल होते है। अगर आप किसी भी प्रोडक्ट का Creative Content बनाते है, तो इससे Customeres आकर्षित होता है। जिसकी वजह से आपके Business की Sales बढ़ती है।

लेकिन अच्छे कंटेंट के साथ साथ आपका Product भी अच्छी क्वालिटी का होना चाहिए। जिससे की जो भी ग्राहक एक बार आपकी वेबसाइट पर आकर जिस प्रोडक्ट को Buy करता है, वह उससे आने वाले समय में भी ख़रीदे। कुल मिलकार कंटेंट मार्केटिंग बिज़नेस या प्रोडक्ट की सेल्स बढ़ाने के लिए उपयोग की जाती है। इसके अलावा इससे आपके Business की Awareness or Engagement भी बढ़ती है।
कंटेंट मार्केटिंग क्यों महत्वपूर्ण है और इसके क्या फायदे है? (Content Marketing Benefits)
अगर आपका कोई बिज़नेस है, जिसे आप ऑनलाइन और ज्यादा बढ़ाना चाहते है, तो इसके लिए कंटेंट मार्केटिंग बहुत जरुरी है। जो की आपके बिज़नेस को और भी ज्यादा बढ़ा सकते है। इससे आपके ग्राहकों की संख्या बढ़ेगी, इंटरनेट पर आपका Brand भी लोगो को ज्यादा नजर आएगा। आइये जानते है, कंटेंट मार्केटिंग क्यों जरुरी है, और यह आपके बिज़नेस के लिए कैसे फायदेमंद है –


 
Website Traffic Boost करें
अगर आपके बिज़नेस की एक वेबसाइट है, और आप कंटेंट मार्केटिंग करते है। तो इससे आपकी Sales में 2X Boost आता है। क्योकिं जब वेबसाइट पर Search Engine से आर्गेनिक ट्रैफिक आता है, तो इससे Lead बहुत ज्यादा Increase होती है। आप हमेशा नया और Problem Solving कंटेंट वेबसाइट पर अपलोड करें। अपने प्रोडक्ट के बारे में सभी जानकारी विस्तार से दें।

Brand Awareness
इससे आपके ब्रांड की Awareness यानी की जागरूकता बढ़ती है। जिससे की Customers का कही ना कही आपके Brand पर Trust हो जाता है।

Brand Loyalty
कंटेंट मार्केटिंग द्वारा आपके ब्रांड की लॉयल्टी बढ़ती है। उदहारण के लिए मान लीजिये की मैंने किसी ऑनलाइन वेबसाइट का Content पढ़कर कोई Product ख़रीदा और वह प्रोडक्ट बहुत ही अच्छा था। तो में आप बिना कुछ सर्च किये सीधा उसी वेबसाइट पर जाकर प्रोडक्ट खरीदूंगा। क्योकिं मुझे उस Brand पर Trust है। अगर आपके कंटेंट के अलावा Product में भी दम होगा तो जरूर आपकी ब्रांड लॉयल्टी में भी बहुत ज्यादा ग्रहको की संख्या बढ़ेगी।

Lead Generation
कंटेंट मार्केटिंग से आप अपने प्रोडक्ट की लीड जनरेशन को बढ़ा सकते है। मान लीजिये किसी ग्राहक को कोई समस्या आ रही है, तो आपने उस समस्या के ऊपर एक कंटेंट Published किया। कंटेंट के निचे आपने अपने Product के बारे में भी बताया है, की आपका प्रोडक्ट किस तरह से इस समस्या को आसानी से Solve कर सकता है, तो ऐसे में आपकी Sales या Lead Generation की Speed बढ़ जाती है।
Content Marketing Examples क्या है?
कंटेंट मार्केटिंग के बहुत सारे उदहारण होते है, लेकिन यहाँ पर हम सिर्फ मुख्य Examples की बात करेंगे। जिनका सबसे ज्यादा उपयोग किया जाता है। सबसे ज्यादा Use किये जाने वाले 5 Content Marketing Examples कुछ इस प्रकार है –

Infographics
Webpages
Podcasts
Videos
Books

पुराने समय मेंं लेखन कार्य को केवल के रुचि माना जाता था लेकिन आज के समय मेंं यह लोगों की  कमाई का साधन बन चुका है। लेखन एक ऐसी कला है। जिसमेंं कोई भी पूर्ण रूप से महारत हासिल नहीं कर सकता है क्योंकि दुनिया मेंं जीतने भी बड़े राइटर्स हुए है वे किसी एक या दो क्षेत्र मेंं ही महारथी थे न कि सभी क्षेत्रों मेंं

अमेरिकी लेखक अर्नेस्ट हेमिंग्वे के शब्दों के कहा जाए तो, राइटिंग स्किल में  में कोई भी परफेक्शन तो हासिल नहीं कर सकता, लेकिन लगातार प्रैक्टिस, लर्निंग और मेहनत से इसमेंं निखार जरूर ला सकता है। 

इस class मेंं हम आपको राइटिंग से जुड़े इसी करिअर के बारे मेंं सम्पूर्ण जानकारी देने वाले है अगर आपकी रुचि लेखन  मेंं है तो यह करिअर आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। इस class मेंं हम आपको बताने वाले है कि कंटेन्ट राइटर कैसे बने content writer kaise bane, लेखक कैसे बने lekhak kaise bane hindi , प्रोफेशनल राइटर कैसे बने professional writer kaise bane फ्रीलांस राइटर कैसे बने freelance writer kaise bane 

See also  Learn to Fully Charge Your Work & Life by Tom Rath #gautam bhaiya done

class का पूरा विवरण

लेखन कार्य का महत्व

इंटरनेट युग आने के बाद दुनियां मेंं राइटर्स की संख्या तेजी से बढ़ी है इसका सबसे बड़ा कारण है। इंटरनेट , इंटरनेट आने के बाद लोगों को किसी भी चीज के बारे मेंं जानकारी प्राप्त करना काफी आसान हो गया है।

अगर किसी यूजर्स को किसी टॉपिक के बारे में जानकारी नहीं है तो वो मोबाइल में कुछ ही सेकंड्स में सर्च कर सकते है। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर इंटरनेट पर इतना कंटेंट कहां से आता है। इसका जवाब है राइटर्स।

राइटर्स ही इन कंटेंट को पब्लिश करते है और जिस भी यूजर्स को उस कंटेन्ट की जरूरत होती है वो उसे पढ़ सकता है। आप ये जो आर्टिकल पढ़ रहे है। ये भी किसी कंटेन्ट राइटर्स के द्वारा ही लिखा गया है। 

कंटेंट राइटिंग क्या है

किसी भी टॉपिक, किताब, आर्टिकल इत्यादि को लिखने लिए जिन शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है। वो सभी कंटेन्ट राइटिंग के अंतर्गत आता है। इसमें शब्दों की कोई लिमिट नहीं होती है। वो राइटर्स के ऊपर निर्भर करता है कि आप किसी भी टॉपिक को समझना के लिए कितने शब्दों का इस्तेमाल करना चाहते है। यही नहीं एक लेखक का कार्य किसी भी घटना से प्रेरित होकर उसे शब्दों में बयां करना भी होता है।

कंटेंट राइटर कैसे बने Content Writer Kaise Bane

राइटर बनने के लिए अच्छा रीडर बने 

जाने माने लेखक स्टीफन किंग अपनी किताब ऑन राइटिंग मेंं कहते हैं कि अगर आप अच्छे रीडर नहीं बन सकते तो आप कभी भी राइटर्स नहीं बन सकते है इसलिए राइटर्स बनने के लिए हमेंंशा बुक पढ़ने के आदत डालो।

आप जिस जिस भी विषय मेंं राइटिंग की महारत हासिल करना चाहते हो पहले उस विषय से जुड़े महान लोगों की किताबों को पढ़ने की आदत डालो। आप जितन ज्यादा किताबों को पढ़ोगे आपके पास उस विषय की उतनी ही जानकारी होगी फिर आप उसे दूसरे को सीखा पाओगे।  

अगर आप किसी विषय के बारे में खुद ही नहीं जानते तो दूसरों को उसके बारे में कैसे सिख पाओगे।

आज के समय में आपके पास सीखने के नए नए तरीके उपलब्ध है किताबों के अलावा आप वीडियो ऑडियो , इंटरव्यू ग्रुप डिस्कशन इत्यादि से भी सीख सकते है आपके अंदर सीखने की जितनी आग होगी आप उतना  ज्यादा सीख सकते हो।  

पुराने राइटर्स के साथ संबंध बनाए 

किसी भी क्षेत्र मेंं सफल होने के लिए मेंंटर का होना बेहद जरूरी है। जो आपको एक सही राह दिखाता है और आपको आगे बढ़ने मेंं मदद करता है। इसलिए राइटर्स बनने के लिए आपको ऐसे लोगों के साथ भी संबंध बनाने होंगे, जो आपके विषय रुचि रखते हो। आप इनके साथ अपने आर्टिकल शेयर करके फ़ीड बैक ले सकते है, ताकि आप उसमेंं सुधार कर सको। जो किसी भी क्षेत्र मेंं आगे बढ़ने के लिए बेहद जरूरी है।

पब्लिश्ड और प्रोफेशनल राइटर्स से आप राइटिंग के बिजनेस पहलू से लेकर पब्लिशिंग इंडस्ट्री और सेल्फ-पब्लिशिंग के बारे मेंं सीख सकते हैं।

राइटिंग स्किल सीखे 

अगर आप किसी प्रोफेशनल राइटर्स से लिखने के गुण सीखना चाहते है। आज के समय मेंं ऐसे बहुत से प्रोफेशनल राइटर्स मौजूद है। जो दूसरे युवाओ को सीखने के लिए ऑनलाइन कोर्स कराते है। ऐसे मेंं आप ऑनलाइन कोर्स की मदद से लिखने के गुण सीख सकते है। 4 जी इंटरनेट आने के बाद अनलाइन कोर्स की डिमांड काफी बढ़ गई है।

अगर घर बैठे कंटेन्ट राइटिंग से जुड़ी स्किल सीखना चाहते है। तो देश विदेश की ऐसे बहुत सी यूनिवर्सिटी है जो अनलाइन छात्रों को ऑनलाइन कोर्स की सुविधा देती है जैसे कि कोर्सेरा, यूडेमी और एडएक्स हार्वर्ड, स्टैनफोर्ड और एमआईटी जैसी यूनिवर्सिटीज 

बिना सोचे समझे लिखना शुरू करें 

जब आप किताब पढ़ने की आदत डाल लेते हो तो आपके मस्तिष्क मेंं भी उस विषय से जुड़े अलग अलग प्रकार के विचार दौड़ने लगते है ऐसे मेंं आप उन विचारों को रोजना कॉपी मेंं लिखने की आदत डालो।

अगर ये प्रक्रिया आप लगातार करते हो तो लिखना आपकी आदत बन जाएगी और आप आने वाले भविष्य के एक अच्छे राइटर्स बन सकते है हो सकता है, शुरुआत मेंं आपको लिखे हुए विचार पसंद  न आए, लेकिन जब आप रोजाना लिखते हो तो आपकी स्किल मजबूत होती है। जिसका फायदा आपको जरूर मिलता है।

रिसर्च करने की आदत डालो 

जब आप किसी भी काम को शुरू करते हो तो शुरुआत  में आपको उसकी ज्यादा जानकारी नहीं होती है। ऐसे ही लेखन  भी एक तरह का कार्य है। जब आप इस कार्य को शुरू करते हो तो शुरुआत में आपको लेखन के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है। आप जब भी लिखाण शुरू करत हो तो आपको नई नई चीजों के बारे में पता चलता है। ऐसे में आपको लग सकता है कि ते शब्द तो ,मैंने पहली बार ही सुना है यही से आप चीजों को रिसर्च करने की आदत डालनी है।

आज के समय में किसी भी टॉपिक के बारे में रिसर्च करने के लिए गूगल यूट्यूब सबसे अच्छा साधन है जिसका आप पूरा फायदा ले सकते है। लेखन की कला में आप जितना ज्यादा गहराई तक जाएगी, ( यानि कि किसी भी टॉपिक के  बारे में गहराई से जानकारी प्राप्त करना ) आपकी लेखन कला उतनी ही बेहतर होगी।

भाषा विशेष मेंं अच्छी पकड़ बनाए 

आप चाहे किसी भी विषय के लेखक बनना चाहते हो लेकिन उसके लिए आपको किसी भाषा विशेष का ही इस्तेमाल करना पड़ता है। आप अलग अलग विषयों को लिखने के लिए अलग अलग भाषा का इस्तेमाल नहीं कर सकते है।

आप जिसे भी भाषा मेंं लेखक बनाना चाहते है। आपको उस भाषा के बारे मेंं अच्छी समझ होनी चाहिए, क्योंकि छोटे छोटे बिन्दुओ पर ध्यान देने से ही आप अच्छे लेखक की श्रेणी मेंं आ सकते है, जैसे कि अगर आप अंग्रेजी भाषा के लेखक बनाना चाहते है तो आपको ग्रामर , वर्ड स्पेलिंगस इत्यादि के बारे मेंं अच्छी पकड़ होनी चाहिए।

राइटर बनने के लिए जल्दबाजी न करे 

कोई भी प्रसन एक दिन मैं महान नहीं बन सकता है और न ही आज तक कोई रातों रात महान बना है। ऐसे ही लेखन कार्य भी एक प्रोफेशन है इसमें भी आप एक या दो दिन में सफल नहीं हो सकते है। धैर्य की परीक्षा हर जगह होती है यहां भी होगी।

आप एक दो आर्टिकल लिखकर ये नहीं कह सकते है कि मेंं राइटर बन गया  हू। उसके लिए आप दिन रात कड़ी मेंंहनत करनी होगी तभी आप सफलता का स्वाद ले सकते है।

जल्दबाजी मेंं किया हुआ काम ज्यादा दिन तक नहीं चलता इसलिए कोई भी आर्टिकल लिखते समय जल्दबाजी न करे। अगर देखा जाए तो दुनियां मेंं जितनी भी बड़ी बड़ी किताबे है। उनको लिखने मेंं राइटरो को कई कई साल लग गए है। कुछ किताबों को लिखने मेंं दस से 15 साल भी लग गए है। इसलिए उन किताबों को आज भी पढ़ा जाता है।  

अच्छा लिखने की आदत डालो चाहे एक दिन में कम शब्द ही क्यों न लिखे जाए। अभ्यास के लिए आप अलग अलग से कितने भी लिख सकते हो क्योंकि बिना गलती हुए किसी भी चीज मेंं सुधार नहीं किया जा सकता है।

राइटिंग से जुड़े कुछ टिप्स

  • आप एक अच्छे राइटर तभी बन सकते हो जब आप लिखते समय ग्रामर और स्पेलिंग यानि कि छोटे छोटे बिंदुओं पर बारीकी से ध्यान दे।  
  • आप किसी भी क्षेत्र में भी महारत हासिल कर सकते हो जब आप उस काम के लिए रोजाना अभ्यास करते हो इससे आपके काम में दिन प्रतिदिन निखार आता है।
  • आप जिस भी विषय मेंं राइटर बनना चाहते हो तो रोजाना उस विषय से जुड़े महान लोगों की पुस्तकों को पढ़ने की आदत डाले।
  • जब भी आपको राइटिंग स्किल से जुड़े वर्कशॉप मीटिंग्स या किसी भी प्रकार की क्लास जॉइन करने के अवसर मिले तो उसका हिस्सा जरूर बने।  
  • एक राइटर का दिमाग हर समय चलता रहता है जिसके कारण उनके मन में रोजाना नए नए विचारों का जन्म होता है इसलिए अपने विचारों को लिखने की आदत डाले | जब आपके मन में कोई नए विचार आते है तो आप पुराने विचार भूल जाते हो इसलिए भूलने से पहले उन्हें किसी नोटबुक में लिख ले।  
  • कोई भी लेख लिखते समय हमेशा ये बात ध्यान रखें कि आर्टिकल में फालतू की  बातों पर ज्यादा ध्यान न दे क्योंकि ऐसे बाते आपके आर्टिकल को बोरिंग बना सकती है इस प्रकार की गलतियां आप शुरुआत में कर सकते हो।
  • आर्टिकल में हमेशा सही जानकारी ही दें , क्योंकि गलत जानकारी आपको यूजर्स की नजरों  में खराब कर सकती है जिसके कारण लोगों का आपके ऊपर से विश्वास खत्म हो सकता है।  

Ummeed hai aapko hamari iss class mein jo bhi bataya gaya h, wo poori tarah se samjh mein aaya hoga…. Yadi haan toh hamari aage aane wali classes ko bhi join kare Aur apna feed…..Dhanyawaad.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *